फ़ॉलोअर

गुरुवार, 21 सितंबर 2017

टूटकर फूल शाखों से....श्वेता सिन्हा



टूटकर फूल शाख़ों से झड़ रहे हैं।
ठाठ ज़र्द पत्तों के उजड़ रहे हैं।।

भटके परिंदे छाँव की तलाश में
नीड़ोंं के सीवन अब उधड़ रहे हैं।

अंजुरी में कितना जमा हो ज़िदगी
बूँद बूँद पल हर पल फिसल रहे हैं।

ख़्वाहिशों की भीड़ से परेशान दिल
और हसरतें आपस में लड़ रहे हैं।

राह में बिछे फूल़ो का नज़ारा है
फिर आँख में काँटे कैसे गड़ रहे हैं।

      #श्वेता🍁

16 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" शुक्रवार 22 सितम्बर 2017 को लिंक की गई है.................. http://halchalwith5links.blogspot.com पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
  2. बहुत बहुत आभार आपका दी।तहेदिल से शुक्रिया बहुत सारा।

    जवाब देंहटाएं
  3. अति सुन्दर !
    वाह !
    शुभ संध्या।
    एक ग़ज़ल जिसका हरेक शेर जीवन की किसी न किसी परिस्थिति का प्रतिनिधि होकर उभरा है।
    इतनी सरलता सृजन को लोकप्रियता की सीढ़ियां चढ़ने में मददगार है।
    बधाई एवं शुभकामनाएं श्वेता जी।

    जवाब देंहटाएं
  4. वाह ! बेहतरीन ग़ज़ल ! बहुत खूब आदरणीया ।

    जवाब देंहटाएं
  5. टूटकर फूल शाखों से झड़ रहे है
    ठाठ जर्द पत्तों के उजड़ रहे है।

    बहुत ख़ूब श्वेता जी। waahhh। ख़्वाहिशों और हसरतों के बीच के ज़हीन झगड़े का हसीन तब्सिरा। पूरी रचना बेहद दिलकश। सादर

    ख़्वाहिश हसरत लड़ रहीं, परेशान है दिल
    जोर शोर की ज़हद में, फिसल जायें ना पल।

    जवाब देंहटाएं
  6. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शुक्रवार (22-09-2017) को "खतरे में आज सारे तटबन्ध हो गये हैं" (चर्चा अंक 2735) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    जवाब देंहटाएं
  7. बहुत खूब श्वेता जी..
    सभी भावों में निपुण,👌

    जवाब देंहटाएं
  8. आदरणीय श्वेता जी बहुत अच्छी रचना है ----- एकदम आपकी प्रतिभा के अनुरूप --- सस्नेह --

    जवाब देंहटाएं
  9. वाह!!!!
    लाजवाब प्रस्तुति....

    जवाब देंहटाएं
  10. बहुत ही शानदार।

    जवाब देंहटाएं
  11. ख्वाहिशों की भीड़ में हसरतों का जाल ...
    क्या गज़ब की ग़ज़ल हुयी है ... हर शेर लाजवाब ...

    जवाब देंहटाएं

14...बेताल पच्चीसी....चोर क्यों रोया

चोर क्यों रोया और फिर क्यों हँसते-हँसते मर गया?” अयोध्या नगरी में वीरकेतु नाम का राजा राज करता था। उसके राज्य में रत्नदत्त नाम का एक सा...