फ़ॉलोअर

शनिवार, 23 सितंबर 2017

चंद शेर..........बशीर बद्र


उजाले अपनी यादों के हमारे साथ रहने दो
न जाने किस गली में ज़िन्दगी की शाम हो जाये ।
.....
ज़िन्दगी तूने मुझे कब्र से कम दी है ज़मीं 
पाँव फैलाऊँ तो दीवार में सर लगता है । 
.....
जी बहुत चाहता है सच बोलें
क्या करें हौसला नहीं होता । 
.....
दुश्मनी जम कर करो लेकिन ये गुँजाइश रहे 
जब कभी हम दोस्त हो जायें तो शर्मिन्दा न हों । 
.....

एक दिन तुझ से मिलनें ज़रूर आऊँगा 
ज़िन्दगी मुझ को तेरा पता चाहिये ।
.....

इतनी मिलती है मेरी गज़लों से सूरत तेरी 
लोग तुझ को मेरा महबूब समझते होंगे । 
 .....
वो ज़ाफ़रानी पुलोवर उसी का हिस्सा है 
कोई जो दूसरा पहने तो दूसरा ही लगे । 
..... 
लोग टूट जाते हैं एक घर बनाने में 
तुम तरस नहीं खाते बस्तियां जलानें में। 
 .....
पलकें भी चमक जाती हैं सोते में हमारी, 
आँखों को अभी ख्वाब छुपाने नहीं आते । 
..... 
तमाम रिश्तों को मैं घर पे छोड़ आया था. 
फिर उस के बाद मुझे कोई अजनबी नहीं मिला ।
 .....
मैं इतना बदमुआश नहीं यानि खुल के बैठ 
चुभने लगी है धूप तो स्वेटर उतार दे ।

-बशीर बद्र

10 टिप्‍पणियां:

  1. बशीर बद्र की बात ही कुछ और है !

    जवाब देंहटाएं
  2. वाह्ह्ह...आभार आपका दी...बहुत ही उम्दा...।

    जवाब देंहटाएं
  3. अज़ीम शायर डॉक्टर बशीर बद्र साहब के चुनिंदा शेर एक साथ विविधा पर साझा करने के लिए आपका हार्दिक आभार। नब्बे के दसक के आरम्भ में हुए दंगों के बाद इनका शेर -
    "लोग टूट जाते हैं एक घर बनाने में
    तुम तरस नहीं खाते बस्तियां जलानें में।"
    बेतहासा चर्चित हुआ।

    जवाब देंहटाएं
  4. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल रविवार (24-09-2017) को
    "एक संदेश बच्चों के लिए" (चर्चा अंक 2737)
    पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    जवाब देंहटाएं
  5. शुक्रिया इन शेरों को साझा करने के लिए । सभी याद रह जाने वाले शेर हैं खूबसूरत !

    जवाब देंहटाएं
  6. उतर भी आओ कभी आसमाँ के ज़ीने से
    तुम्हें ख़ुदा ने हमारे लिये बनाया है।

    बहुत सुंदर प्रस्तुति। वाह

    जवाब देंहटाएं
  7. पद्मश्री बशीर साहब को सलाम पहुंचे
    सभी किस्म की श़ायरी उनकी कलम प्रसवित कर चुकी है
    आदर सहित

    जवाब देंहटाएं
  8. दे तू चंद लम्हे मुझे उधार
    ताकी जी भरकर के तो देख लू तुझे

    बहुत खूब

    जवाब देंहटाएं

14...बेताल पच्चीसी....चोर क्यों रोया

चोर क्यों रोया और फिर क्यों हँसते-हँसते मर गया?” अयोध्या नगरी में वीरकेतु नाम का राजा राज करता था। उसके राज्य में रत्नदत्त नाम का एक सा...