समर्थक

रविवार, 24 सितंबर 2017

एक चाँद आवारा रहेगा.....श्वेता सिन्हा



बस थोड़ी देर और ये नज़ारा रहेगा,
कुछ पल और धूप का किनारा रहेगा।

हो जाएंंगे आकाश के कोर सुनहरे लाल,
परिंदों की ख़ामोशी शाम का इशारा रहेगा।

ढले सूरज की परछाई में च़राग रौशन होंगे,
दिनभर के इंतज़ार का हिसाब सारा रहेगा।

मुट्ठियों में बंद कुछ ख़्वाब थके से लौटेंगे,
शजर की ओट लिये एक चाँद आवारा रहेगा।

अँधेरों की वादियों में तन्हाइयाँ महकती है,
सितारों के गांव में चेहरा बस तुम्हारा रहेगा।
         #श्वेता🍁



        



14 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ संध्या....
    बेहतरीन ग़ज़ल
    आभार
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. लाजवाब
    हर शेर बेहतरीन
    बहुत ही नायाब ग़ज़ल

    उत्तर देंहटाएं
  3. शुभ संध्या। सांझ बेला का मनोहरी जीवंत चित्रण। चित्र और शब्दों की बाजीगरी, स्वाभाविक प्रवाह और भाव सौंदर्य ग़ज़ल को उत्कृष्ट श्रेणी में लाकर खड़ा करते हैं। बधाई एवं शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल सोमवार (25-09-2017) को
    "माता के नवरात्र" (चर्चा अंक 2738)
    पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  5. ढले सूरज की परछाई में च़राग रौशन होगे,
    दिनभर के इंतज़ार का हिसाब सारा रहेगा।

    Wahhhhh। बहुत बहुत शानदार लाज़वाब ग़ज़ल। सधे काफ़िये, शानदार मतला, जानदार मकता, ख़ूबसूरत मिसरों से सजी संग्रह करने लायक रचना। क्या बात है।

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत खूबसूरती से शब्दों को ढाला है। एक-एक मिसरा लाजवाब है।
    इसी तरह आगे बढ़ती रहिये।

    उत्तर देंहटाएं
  7. आपकी लिखी रचना  "पांच लिंकों का आनन्द में" बुधवार 27 सितंबर 2017 को लिंक की गई है.................. http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!


    उत्तर देंहटाएं
  8. बहमेशा की तरह बहुत मनमोहक रचना है -- आदरणीय श्वेता जी --सस्नेह शुभकामना |

    उत्तर देंहटाएं
  9. सितारों के गांव में चेहरा बस तुम्हारा रहेगा।....... वाकई खुबसूरत!!!

    उत्तर देंहटाएं
  10. वाह ! हर शेर लाजवाब !! बेहतरीन प्रस्तुति ! बहुत खूब आदरणीया ।

    उत्तर देंहटाएं

लफ्ज बिखरे है ...डॉ. इन्दिरा गुप्ता

मसि बहती  हिय पन्नॊं पर  कहीँ कम  कहीँ ज्यादा ! पन्ना गीला  गीला सा है  कहीँ कम  कहीँ ज्यादा ! मन भी तन्हा दुखा उम्र भर  कहीँ ...